DRDO बना रहा घातक रेलगन आइये जाने इनके बारे में

आपको बता दे की रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) भविष्य के हथियारों पर भी कार्य कर रहा है।

इन्ही के सिलसिले में उसने इलेक्ट्रो मैग्नेटिक रेलगन बनाने के लिए भी शुरुआती तैयारियां आरंभ कर दी है।

आपको बता दे की यह ऐसी तोप है जो 200 किलोमीटर दूरी तक मार कर सकती है।

इतना ही नहीं यह थल, नभ और जल सेना तीनों के लिए भविष्य का एक घातक हथियार है।

आपकी जानकारी के लिए बता दे की इसमें गोला दागने के लिए बारूद नहीं, बल्कि इलेक्ट्रो मैग्नेटिक फील्ड का इस्तेमाल किया जाता है।

इसे डीआरडीओ ने टेक्नोलॉजी फोकस जर्नल में विस्तृत रिपोर्ट रेलगन को लेकर प्रकाशित की है।

इसका कार्य पुणे स्थित उसकी प्रयोगशाला आरमेंट रिसर्च एंड डेवलपमेंट स्टबलिसमेंट (एआरडीई) में इस पर काम शुरू भी हो गया है।

यह इस प्रकार कम करता है इलेक्ट्रिक करंट के जरिये इलेक्ट्रो मैग्नेटिक फील्ड तैयार किया जाता है।

जिससे गतीय ऊर्जा पैदा होती है जो रेलगन में लगे गोले को ध्वनि की रफ्तार से छह-सात गुना ज्यादा रफ्तार से फेंकती है।